Ads Area

Future of Network Marketing in Hindi | 2025 तक नेटवर्क मार्केटिंग का भविष्य क्या होगा ?

 

2025 तक नेटवर्क मार्केटिंग का भविष्य क्या होगा ?

Introduction : Future of Network Marketing

नेटवर्क मार्केटिंग सच में 21वीं सदी का बिजनेस है क्योंकि इसमें हमें पूंजी नहीं बस समय खर्च करना होता है नेटवर्क मार्केटिंग बिजनेस दुनिया भर में सबसे ज्यादा करोड़पति पैदा करने वाला बिजनेस है आज नेटवर्क मार्केटिंग पिछले बीते सालों के उपरांत में काफी ज्यादा बढ़ चुका है जो लोग पहले इसे एक पार्ट टाइम नौकरी के रूप में शुरू करते हैं बाद में करियर के तौर पर इसे करने लगते हैं, इस लेख मे हम बात करने वाले हे Future of Network Marketing को लेकर तो चलिए आगे बढ़ते हे,

डायरेक्ट सेलिंग अब नौकरियों के रूप करियर की शुरुआत करने में एक मजबूत दिशा है
भारत में नेटवर्क मार्केटिंग का विकास काफी बढ़ गया है पिछले वर्षों के मुकाबले

देश में में कोविड-19 की महामारी की स्थिति के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में काफी गिरावट आ रही है, इसलिए आर्थिक विकास में नेटवर्क मार्केटिंग की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। हाल ही के महीनों में कोविड-19 के कारण कई व्यवसाय बाधित हुए हैं, और कुछ ही दिनों में लाखों लोगों की नौकरियां चली गई है । इसी के चलते युवा उद्यमियों की बढ़ती संख्या नेटवर्क मार्केटिंग को अपने करियर के रूप में चुन रही है।

“आत्मनिर्भर भारत” इस महामारी में भारत सरकार का उठाया गया एक सशक्त कदम साबित हुआ है इसी के साथ आधुनिक भारत (Modern India) या Startup India की परियोजना के लिए नेटवर्क मार्केटिंग एक बड़ा विकल्प है।
भारत सरकार ने नेटवर्क मार्केटिंग क्षेत्र और डायरेक्ट सेलिंग को बढ़ावा देने के लिए FDI रणनीति को अधिकार दिया है इसलिए हम मान सकते हैं कि भारत में नेटवर्क मार्केटिंग व्यवसाय का भविष्य बहुत मजबूत है और यह क्षेत्र बहुत सारी नौकरियां प्रदान कर सकता है और आप अतिरिक्त आय के लिए भारत की किसी भी सर्वश्रेष्ठ डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के साथ जुड़ सकते हैं।

नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में विस्तार से जानने के लिए इसे पढ़ें

हाल की आर्थिक मंदी में अधिक से अधिक लोग नेटवर्क मार्केटिंग व्यवसाय का चयन कर रहे हैं यह देखते हुए कि नेटवर्क मार्केटिंग आपको आर्थिक आजादी देने की ताकत रखता है यह संभावना काफी लोगों को इससे जुड़ने के लिए आकर्षित करती है
आज के समय जहां लोगों को इस बात का अंदाजा लग गया है कि कौन सी कंपनी सही है और कौन सी गलत जानकर अपने लिए सही कंपनी चुन रहे हैं और इसीलिए नेटवर्क मार्केटिंग और MLM लगातार तेजी से बढ़ रहा है, खासकर जब गुणवत्ता वाले उत्पादों (Product) की मांग बढ़ रही है।

आज नेटवर्क मार्केटिंग 150 सात अरब डॉलर के उपभोक्ता हिस्से के साथ 100 से अधिक देशों में सबसे मजबूत व्यापार मॉडल के रूप में चल रहा है

2016 में भारत सरकार ने Direct Selling के आदेश जारी किए और तब से नेटवर्क मार्केटिंग उद्योग का बहुत विस्तार हुआ है।

FICCI-KPMG के अध्ययनों से पता चला है कि 2025 तक डायरेक्ट सेलिंग बिजनेस ₹64,500 करोड़ रुपए को पार कर सकता है और स्वरोजगार के लिए 60% महिलाओं के साथ 1.8 करोड़ भारतीय को लाभ पहुंचा सकता है

भारत में डायरेक्ट सेलिंग उद्योग अपनी कमाई के मामले में आशा जनक साबित हुआ है भारत में नेटवर्क मार्केटिंग उद्योग का स्वर्ण युग अभि शुरू ही हुआ है और उद्योग के लिए जबरदस्त संभावना है

डिजिटल इंडिया (Digital India), मेक इन इंडिया(Make in India) और टैलेंट इंडिया (Talent India) जैसी विभिन्न सरकारी योजनाओं ने भारत की विशेषताओं और विकास में नेटवर्क मार्केटिंग को प्रायोजित किया है।

नेटवर्क मार्केटिंग उद्यमों के विस्तार को सुविधाजनक बनाने के लिए कई मानको(Standards) को विभिन्न स्तरों और नीतियों(Policies) पर भी लागू किया जाता है, जैसे FDI (Foreign Direct Investment) योजना और उपभोक्ता कल्याण विधेयक(Consumer welfare bill)

आखिर क्यों करें नेटवर्क मार्केटिंग ? Why Network Marketing ?

मार्केटिंग रेवेन्यू के मामले में 2025 तक भारत में नेटवर्क मार्केटिंग को ₹645 बिलियन की ऊंचाई तक पहुंचने का अनुमान है। इसमें कई सामाजिक और आर्थिक कारणों को प्रभावित किया है अलग-अलग कारणों से लोग नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुआत करते हैं नेटवर्क मार्केटिंग प्रभाव कई सामाजिक और आर्थिक प्रभाव पर आधारित है।

भारत और दुनिया भर में बड़ी संख्या में लोग नेटवर्क मार्केटिंग द्वारा कार्यरत हैं। युवाओं के लिए एक नया कैरियर शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका बेरोजगारी दर में नियमित रूप से वृद्धि करना है। CMIE क्षण के अनुसार भारत में लगभग 28% युवाओं के पास कोई नौकरी नहीं है इसके तहत डायरेक्ट सेलिंग एक नया और बड़ा बाजार है।

नेटवर्क मार्केटिंग महिलाओं को प्रेरित करने के लिए और अपने लिए समय और नौकरी को संतुलित करने के लिए एक उज्जवल भविष्य निर्धारित करता है।

आज नेटवर्क मार्केटिंग अपने व्यापक ग्राहक आधार(distributors) को निष्क्रिय आय (Passive Income) प्रदान करने के साथ-साथ एक सूक्ष्म उद्यम(Micro Enterprise) हासिल करने की क्षमता प्रदान करता है।

नेटवर्क मार्केटिंग स्वरोजगार (self employment) से शुरू होती है जो एक निष्क्रिय आय(Passive Income) की ओर बढ़ती है। जब आपकी टीम का आकार आपके मुनाफे को बढ़ाता है, आप जीवन भर वित्तीय स्वतंत्रता (Financial independence) का जीवन जिएंगे अपने शानदार पारिवारिक वाहनों जैसे Audi, Mercedes आदी के साथ। और इसी के साथ साथ आपको कहीं शानदार छुट्टी बिताने का अनुभव प्राप्त हो सकता है।

क्योंकि एमएलए व्यवसाय एक बड़ा सार्वजनिक कर (Income Tax) उत्पन्न करते हैं जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था के सुधार मैं भारी योगदान होता है। TDS कटौती के बाद सभी नेटवर्कस॔ को भुगतान कर दिया जाता है, 2018 में प्रत्येक कर कुल 20 बिलियन था।

जैसे-जैसे इन्फ्लेशन रेट बढ़ती है लोग अपने सामान्य आय स्रोत के साथ अपने खर्चों का मिला नहीं कर पाते हैं ऐसे में MLM लोगों की आय का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत साबित हो सकता है। अतः लोग नेटवर्क मार्केटिंग में शामिल होकर अपने भविष्य के जीवन को सुरक्षित करने के लिए अच्छा पैसा चाहते हैं।

नेटवर्क मार्केटिंग में आप काम से जल्दी सेवानिवृत्त हो सकते हैं यदि आप 2 से 3 साल काम करना जारी रखते हैं तो आप अच्छी आय के साथ अपने जीवन का आनंद ले सकते हैं।

निष्कर्ष:

इन आंकड़ों के विवरण से पता चलता है कि नेटवर्क मार्केटिंग इंडस्ट्री मैं भारत में विकसित और सफल होने की उत्कृष्ट क्षमता है। भारत में सामाजिक और आर्थिक मानदंड(parameters) प्रभावित हुए हैं, यह अनुमान लगाया गया है कि 2021 के अंत तक लगभग ₹159 अरब रूपए और 2025 तक यह राशि ₹645 अरब रुपए होगी। हम आसानी से यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि भारत में नेटवर्क मार्केटिंग का विकास अत्याधिक आशाजनक है ।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad